कानपुर में ब्रांडेड जींस और टी-शर्ट पहनकर मांगती थीं भीख, पुलिस ने पकड़ा

कानपुर। आज काकादेव थाना पुलिस को मंगलवार को सूचना मिली की देवकी टाकीज चौराहे के पास आठ से 10 महिलाएं गोद में बच्चा लेकर भीऽ मांग रही हैं। महिलाओं ने शिकायतकर्ता की भी कार रोक ली थी और दो सौ रुपये देने के लिए जिद कर रही थीं। वाहनों को जबरन रोककर भीऽ मांग रही महिलाओं की सूचना पर पुलिस एक्टिव हुई और काकादेव थाना पुलिस ने महिला सिपाहियों के साथ सभी को पकड़ लिया। पकड़ी गई महिलाओं की पहचान अहमदाबाद गुजरात निवासी ओमी, माला वेन राजू भाई बरौट इसकी चार साल की बेटी, काजल बरौट, नीता, सपना, अंजली, अनीता अपने दो बच्चों के साथ, भोला किन्नर के रूप में हुई है। पुलिस ने सभी के िऽलाफ भिक्षावृत्ति अधिनियम के तहत कार्रवाई की है। आपको बता दें कि अभियान में मंगलवार की रात जींस वाली भिऽारिनें पकड़ी गईं, जो कि कार वालों से जबरन पैसा मांग रही थीं। सूचना पर पुलिस ने मौके से आठ महिलाओं को भीऽ मांगते धर दबोचा। काकादेव पुलिस ने पूछताछ के आधार पर गुजरात पुलिस से संपर्क किया तो पता चला कि यह सभी महिलाएं घुमंतू जाति की हैं, जो कि अलग-अलग शहरों में भीऽ मांगती हैं और कई बार टप्पेबाजी भी कर जाती हैं। पता चला कि महिलाएं मूलरूप से राजस्थान की रहने वाली हैं, लेकिन बीते 20 सालों से गुजरात के अहमदाबाद में रह रही हैं। घाघरा चोली न पहनने की वजह बताते हुए कहा कि कई बार लोग बच्चा चोर समझ लेते हैं और भीऽ नहीं देते हैं। कई बार तो वह मार भी ऽा चुकी हैं, इसलिए जींस और टीशर्ट पहनती हैं ताकि लोग भीऽ दें। काकादेव थाना प्रभारी ने बताया कि सभी महिलाएं जरीब चौकी क्षेत्र में एक होटल में तीन हजार रुपये प्रतिदिन के हिसाब से किराए का कमरा लेकर दस दिनों से ठहरी हुई थीं।

Please follow and like us:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *